SBI एजेंट बनकर नायब तहसीलदार को लगाया चूना, खाते से उड़ाए 98 हजार रुपये

0
132
गोंदिया। आज कल ऑनलाइन नेटवर्किंग का लाभ उठाकर लाखों लोग हर तरह का कारोबार कर रहे है, वही कुछ इस ऑनलाइन सर्विस का गलत फायदा उठाकर लोगों को चुना लगा रहे है। बैंकों द्वारा बार-बार मोबाईल फ़ोन पर एसएमएस किया जाता है कि बैंक कभी आपसे आपका एटीएम कार्ड नम्बर, पासवर्ड, खाता नंबर नहीं मांगता, फिर भी लोग धूर्त लोगो के जाल में फंसकर सब गवां बैठते है। कुछ ऐसी ही धोखाधड़ी गोंदिया ग्रामीण थानांतर्गत एक सरकारी अधिकारी के साथ हुई है।
   ये वारदात गोंदिया ग्रामीण थाना क्षेत्र के नवरगाव खुर्द निवासी जो सरकारी पेशे से नायब तहसीलदार राजाराम सुरजलाल पटले उम्र 57 के साथ 13 व 14 अक्टूबर को घटित हुई।
    घटना के बारे में पुलिस से जानकारी प्राप्त हुई कि, घटना वाले दिन फिर्यादि नायब तहसीलदार पटले अपने कार्यालय में मौजूद थे। तभी उनके मोबाईल फोन पर एक महिला का फोन आया। महिला ने खुद को एसबीआई प्रतिनिधि बताकर एटीएम कार्ड की ऑनलाइन रेकॉर्डिंग वेरिफिकेशन करनी है ऐसा बोलकर फिर्यादि से उनके भारतीय स्टेट बैंक शाखा गोंदिया का खाता क्रमांक और एटीएम कार्ड का 16 डिजिट नम्बर तथा कार्ड की पीछे में अंकित पिन नंबर मांगा।
   इसके बाद 13 अक्टूबर को फिर्यादि के मोबाईल पर 13 बार एसएमएस आये, जिनका ओटीपी नंबर महिला ने मांगा और खाते से 49 हजार 625 पर उड़ाए। इसके बाद 14 अक्टूबर को 10 बार एसएमएस कर ओटीपी नम्बर मांगा और 48 हजार 761 रु. उड़ाए। ऐसा कुल 98 हजार 386 रुपये की ऑनलाइन ट्रांजेक्शन कर धोखाधड़ी की।
   फिर्यादि की शिकायत पर गोंदिया ग्रामीण पुलिस ने उक्त महिला के खिलाफ भादवि की धारा 420, सह कलम 66 डी, सूचना तकनीकी अधिनियम 2008 अनुसार मामला दर्ज कर आगे की जांच पुलिस निरीक्षक धारबले कर रहे है।