किसान मित्र बने तो बढ़ने लगा मध्य प्रदेश में सारस का कुनबा

0
16

बालाघाट । मध्य प्रदेश में सारस पक्षी संरक्षित हो रहे हैं,उनकी सुरक्षा और बचाव को लेकर जागरूकता लाने किए गए प्रयासों के सार्थक परिणाम सामने आ रहे हैं।मध्य प्रदेश पिछले आठ सालों में इनके संरक्षण के लिए लोगों में जागकता लाने तेजी से प्रयास किए गए।यह पक्षी किसानों का मित्र है,लेकिन फसलों में कीटनाशक के उपयोग से इनके जीवन पर संकट गहराने लगा था।वहीं इनके अंडों को लोग नष्ट कर देते थे,लेकिन किसानों उनका मित्र बनकर जहां सारस पक्षी के अंडे को सहेजने में अपनी अहम भूमिका निभाई वहीं कीटनाशक उपयोग कम कर उनके संरक्षण को भी बल दिया। अब सारस पक्षियों की संख्या बालाघाट में भी कम नहीं हैं।बीते दिनों हुई गणना के आंकड़ों के मुताबिक मध्य ्‌प्रदेश में महाराष्ट्र के गोंदिया-भंडारा जिले से अधिक सारस हैं।इनसे पर्यावरण संरक्षण को भी बल मिला है।

छह अप्रैल को बालाघाट में कार्यालय कलेक्ट्रेट सभागृह में 11 बजे से सारस मित्र सम्मेलन 2022 का किया गया आयोजन जिसका शुभारंभ कलेक्टर बालाघाट डॉ गिरीश कुमार मिश्रा एवं जिला पंचायत सीईओ विवेक कुमार तथा जीके वरकडे वन मंडलाधिकारी वन मंडल बालाघाट की प्रमुख उपस्थिती में एवं सारस क्रेन संरक्षण व संवर्धन के क्षेत्र में कार्यरत सेवा संस्था गोंदिया एवं पुरातत्व पर्यटन एवं संस्कृति परिषद बालाघाट वन विभाग के सहयोग से सारस मित्र सम्मेलन का आयोजन प्रथम बार जिले में किया गया इसके पूर्व उक्त आयोजन गोंदिया जिले में ही किया जाता रहा है।

बालाघाट कलेक्टर गिरीश कुमार मिश्रा ने संस्था द्वारा किए जा रहे प्रयासो की प्रशंसा की एवं सारस संरक्षण के लिए किसानों और ग्रामीणों की एक जिला स्तरीय समिति बनाने एवं चित्रकला प्रतियोगिता आदि के माध्यम से ग्रामीणो को सारस संरक्षण कार्य में सहभागिता एवं जागरुकता लाने के प्रयास किए जाने पर चर्चा की।

बालाघाट में गोंदिया-भंडारा से अधिक सारसः विवेक कुमार सीईओ जिला पंचायत ने कहा कि किसानों में सारस संरक्षण के जागरूकता लाने की आवश्यकता है।इसके लिए आवश्यक कदम उठाने होंगे उन्होने सारस गणना की जानकारी ली। जिसमे संस्था द्वारा बताया गया कि बालाघाट में लगभग 45 से 50 सारस गोंदिया में 33 से 35 सारस एवं भंडारा में 2 सारस की उपस्थिति है।माह जून में सारस गणना पुनः होगी जिसमें इनकी संख्या बढ़ने की उम्मीद है बताई गई।

सर्वप्रथम सेवा संस्था के सदस्यों द्वारा उपस्थित अतिथियो को स्मृति चिन्ह देकर स्वागत किया गया एवं सारस संरक्षण के क्षेत्र में किये जा रहे कार्यो की जानकारी एवं संरक्षण हेतु प्रशिक्षण सेवा संस्था के अध्यक्ष सावन बहेकार द्वारा पीपीटी के माध्यम से प्रदान किया गया।जी के वरकड़े डीएफओ वनमंडल बालाघाट ने अपने उद्बोधन में कहा कि सारस संरक्षण हेतु सभी को मिलकर कार्य करना होगा एवं सारस पक्षी या उसके अण्डे या घोसलो को नुकसान पहुचाने वाले व्यक्तियो की जानकारी दूरभाष पर वन विभाग को दे नियमानुसार दंडात्मक कार्यवाही की जावेगी

किसानों को किया सम्मानितः डाक्टर गिरीश कुमार मिश्रा कलेक्टर बालाघाट विवेक कुमार सीईओ एवं जी के वरकड़े डीएफओ बालाघाट के हस्ते जिले में सारस संरक्षण में उत्कृष्ट कार्य कर रहे 17 कृषकों को सम्मानित किया गया सम्मान पाने वाले कृषक विशाल कटरे कुंवर लाल नखाते ओंकार पारधी बसंत बोपचे लीलाराम टेंभरे उमेश कायदे पुष्पकुमार ऐडे जितेंद्र बिसेन चैनलाल टेंभरे नुखराम राणा संदीप राणा कमलेश पटेल रतिराम क्षीरसागर चित्रसेन पारधी ओमप्रकाश राहंगडाले रामेश्वर पारधी को प्रशस्ति पत्र एवं कृषि उपयोगी सारस मित्र किट प्रदान कर सारस क्रेन पक्षी के संरक्षण में किए जा रहे कार्यों की प्रशंसा की गई एवं अपने आसपास के कृषकों को भी जागरूक करने के लिए कहा गया।